सोमवार, 15 नवंबर 2021

Delhi pollution

दिल्ली का pollution 
केजरीवाल और भाजपा की नूरा कुश्ती 
————————————————

दिल्ली के pollution को लेकर हर साल केजरीवाल , भाजपा के बीच नूरा कुश्ती देखने को मिलती है ।
कोर्ट के फटकार के बाद पहले दोनो एक दूसरे पर आरोप लगाते हैं और बाद में पड़ोसी राज्यों  के किसानो पर ठीकरा फोड़ कर अपनी ज़िम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेते है ।
लेकिन इस वार supreme कोर्ट की सख़्ती की वजह से केंद्र सरकार द्वारा अदालत में दाखिल रिपोर्ट के चलते केजरीवाल का स्टंट बेनक़ाब हो गया है ।
रिपोर्ट के मुताबिक़ कुल प्रदूषण में agricultural pollution सिर्फ़ 4 फ़ीसदी है ।pollution का सर्वाधिक 30 फ़ीसदी इंडस्ट्रीयल है ।
इसका मतलब विलकुल साफ़ है ।दिल्ली में प्रतिवँध के वावजूद  चलने वाली औद्योगिक इकाइयों के वजह से  pollution ख़तरनाक लेवेल पर पहुँच गया है ।
लेकिन वोट बैंक के लालच में केजरीवाल और भाजपा चुपी साधे हुए हैं ।इन अवैध तरीक़ों से संचालित इकाइयों के मालिकों को दोनो दलों का patronage हासिल है ।
pollution के कारणो का विस्तृत व्योरा नीचे दिया गया है ।अब supreme court की सख़्ती के वाद उमीद है की दोनो सरकारों सहित पड़ोसी राज्यों की सरकारें भी कोई ठोस कदम उठाएँगी जिससे दिल्ली सहित ncr की जनता को राहत मिल सकेगा ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें