शनिवार, 28 अगस्त 2021

Afghanistan crisis and Taliban

देश में इन दिनों दो मुद्दों पर बहस छिड़ी हुई है
पहला है हमारे पड़ोसी देश अफगानिस्तान में तालिबान शासन। 
दूसरा भारत में सरकार द्वारा सार्वजनिक संपत्तियों को बेचने या निजीकरण का।
इन दोनों मुद्दों पर देखिए खास बात चीत 
भारत सरकार के पूर्व सचिव विजय शंकर पाण्डेय और वरिष्ठ पत्रकार वासिंद्र मिश्र के बीच

‘‘भारत को तालिबानियों से डरने या वार्ता की जरूरत नहींः विजय शंकर पाण्डेय
भारत को अपनी सेनाओं की ताकत बढ़ाने पर देना चाहिए ध्यानः विजय शंकर पाण्डेय
हमें अपने देश, अपने लोग और कश्मीर की सुरक्षा अपने दम पर करनी चाहिएः पूर्व सचिव
भारत को अपनी वैश्विक ताकत दिखानी चाहिएः पूर्व सचिव
कमजोर देशों को हमेशा अन्याय और अत्याचार सहना पड़ाः विजय शंकर पाण्डेय
‘‘वास्तव में कोई भी देश किसी दूसरे देश का मित्र नहीं होता’’ 
‘‘इंटरनेशनल लेवल पर सभी देश अपने हितों को देते हैं प्राथमिकता’’
‘‘अमेरिका का अफगानिस्तान छोड़ने का तरीका सही नहीं था’’
‘‘अफगानिस्तान संकट से भारत नहीं रह सकता अछूता’’
’’भारत का अफगानिस्तान में करीब 250 बिलियन डालर का निवेश’’
’’दुर्भाग्य से भारत अपनी शक्ति दिखाने में रहा पीछे’’
’’दुनिया में अनुरोध से कभी कुछ नहीं हुआ’’
’’सरकार की रक्षात्मक नीति से भारत को आंखें दिखा रहे पड़ोसी देश’’
’’पाकिस्तान से वार्ता नहीं तो उसके पिट्ठू तालिबान से वार्ता क्यों’’
’’किसी आतंकी संगठन के साथ को समझौता भारत की नीति के खिलाफ’’ 
’’पाकिस्तान ने ही तालिबान को जन्म दिया और पालन पोषण किया’’ 
’’अपने दम पर पाकिस्तानियों और तालिबानियों का सामना करे भारत’’
’’सार्वजनिक संपत्तियों को बेचना या निजीकरण गलत नहीं’’
’’संपत्तियों को बेचने या निजीकरण के नाम पर होने वाली लूट गलत’’
‘’भारत में संपत्तियों को बेचने या निजीकरण में हमेशा की गयी लूट‘’
‘’सीमेंट मिल, चीनी मिल, बीएसएनएल और शिवाय होटल के प्राइवेटाइजेशन में हुई लूट‘’
‘’केन्द्र सरकार के पास पैसों की कोई कमी नहीं‘’
‘’चीन की आर्थिक प्रगति से सबक क्यों नहीं लेता भारत‘’
‘’सरकारी नीतियों का अनुचित लाभ उठा रहे कुछ औद्योगिक घराने‘’ 
‘’कौड़ी के दाम पर जनता की संपत्ति बेचने वालों के खिलाफ हो कार्रवाई‘’
‘’परियोजनाओं में लागत से दो से तीन गुना ज्यादा का बनता है बजट‘’
‘’सरकारी कामों व परियोजनाओं में चोरी, लूट रोकने से सुधरेंगे हालात‘’
‘’भ्रष्टाचार ने हमारे देश की जड़ें साफ कर कर दी हैं‘’
‘’उत्तर प्रदेश में सभी राजनीतिक दलों को बारी-बारी से मिला सत्ता‘’
‘’जनता की समस्याओं के लिए सब एक-दूसरे पर फोड़ रहे ठीकरा‘’
‘’लूट-खसोट कर खूब बनाए अपने बैंक-बैलेंस, रिपोर्ट कार्ड रहा जीरो‘’
‘’काले धन में पूरी तरह डूब चुकी है भारतीय राजनीति‘’

गुरुवार, 12 अगस्त 2021

come back of Mandal

मंडल राजनीति की वापसी 
————-
मंडल बनाम ओ बी सी 
——————————

इंदिरा गांधी द्वारा गठित  मंडल कमिशन , विश्व नाथ प्रताप सिंह द्वारा लागू किए गए मंडल कमिशन की सिफ़ारिशों को कमंडल की राजनीति से ध्वस्त करने में विफल भाजपा को भी अब obc की राजनीति करने पर मजबूर होना पड़ा है ।
वास्तव में पिछड़ों की राजनीति की शुरुआत डॉक्टर राम मनोहर लोहिया ने की थी ।बाद में तमाम समाजवादियों ने इसका समर्थन किया ।पिच्छड़ों को उनका हक़ दिलाने के लिए संघर्ष किया ।
वदते राजनैतिक दबाव के चलते इंदिरा गांधी ने  बी पी मंडल की अध्यछता में एक आयोग बना दिया लेकिन आयोग की सिफ़ारिशों को लागू नही किया ।
कई साल बाद वी पी सिंह भाजपा और वाम मोर्चा समाजवादियों की मदद से प्रधान मंत्री बन गए ।प्रधान मंत्री बनने से पहले वी पी सिंह   कहा करते थे की politics is the management of contradictions.
वी पी सिंह प्रधान मंत्री बनने के पहले यह भी कहते थे की he will be disaster if he made prime minister.
वी पी सिंह के ये दोनो बयान बहुत चर्चा में रहे 
ख़ास तौर से जब उन्होंने भाजपा के प्रभाव को निषप्रभावी करने के लिए आनन फ़ानन में मंडल कमिशन की सिफ़ारिशों को लागू कर दिया था ।प्रतिक्रिया में पूरे देश में हिंसा और आगज़नी हुई थी ।वी पी सिंह की सरकार गिर गयी थी ।
लालू मुलायम नीतीश राम विलास उसी राजनीति के पुरोधा है ।वी पी सिंह के उस मंडल कार्ड को शिकस्त देने के लिए आडवाणी जी उग्र हिंदुत्व के अजेंडा को लेकर चलना पड़ा ।रथ यात्रा निकाल कर सम्पूर्ण हिंदू समाज को लामबंद करना पड़ा ।
आडवाणी जी की उसी रथ यात्रा का परिणाम है की आज भाजपा की देश और तमाम राज्यों में सरकारें हैं ।
दूसरी तरफ़ मंडल समर्थकों को भी राजनैतिक लाभ मिला ।या हम कह सकते हैं की इसका सरबाधिक राजनैतिक लाभ मंडल और कमंडल की राजनीति करने वालीं को मिला और सरबाधिक  घाटा कांग्रिस और वाम दलों को हुआ ।
आज एक बार फिर कमंडल के ऊपर मंडल की राजनीति भारी पड़ती दिखायी दे रही है ।कल तक सम्पूर्ण हिंदू समाज की एका की दुहाई देने वाले obc के ज़रिए जातीय राजनीति को महत्व दे रहे हैं ।
इतिहास के जानकारों का कहना है कि नक़ल की राजनीति लम्बे समय तक लाभकारी नहि रह सकती ।mandal forcess ने जातीय आधारित census की बात करके obc की पॉलिटिक्स करने वालों के सामने चुनौती पेश कर दी है ।

रविवार, 1 अगस्त 2021

Economic justice for all

तेजस्वी यादव के मुताबिक़ अब सामाजिक न्याय का कार्य पूरा हो चुका है ।
अब आर्थिक न्याय दिलाना ज़रूरी है ।कमजोर तबके को आर्थिक न्याय दिलाने के लिए कार्य होना। चाहिए ।
कांशी राम ने तो कई दशक पहले सत्ता में आने पर सवर्णो को reservations देने का ऐलान किया था 
वे अपनी जनसभाओं में कहा करते थे की सत्ता में क़ाबिज़ होने पर हम लोग अगाड़ी जातियों को न्याय दिलाएँगे ।
बाद में यही बात राम विलास पासवान , चिराग़ पासवान और मायावती कहती रही हैं ।
अब तेजस्वी यादव के बयान से लगता है की देश में सामाजिक न्याय का चक्र पूरा हो गया है ।
ऐसा लगता है की जाति की राजनीति करने वालों की नज़र upper caste पर है और वहीं दूसरी तरफ़ भाजपा और congress अभी भी दलित और obc वोट बैंक को अपने पाले में लाने की जुगत में जुटे हैं ।
राजनैतिक सोच के मामले में इन छेत्रिय नेताओं का नज़रिया नैशनल पार्टियों के नेताओं से ज़्यादा साफ़ और दूरगामी है ।
आज सही मायने में असली मुद्दा भूख बेरोज़गारी एजुकेशन स्वास्थ्य और महंगाई हैं।
जाति की राजनीति करने वाले कार्ल मार्क्स गांधी और दीन दयाल उपाध्याय का नाम लिए बग़ैर उन्ही के आर्थिक दर्शन को अपना कर आगे वड़ने की कोशिस में लगे है ।और दूसरी तरफ़ खुद को इन युग पुरुषों के स्वाभाविक उत्तराधिकरी समझने वाले उनके सिधांतों को तिलांजलि देकर आगे जाने की कोशिस में लगे हैं।