शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2021

elections in 5 states

सत्ता हर क़ीमत पर 
सत्ता ही परमो धर्मों 
————————
देश की दोनो national parties- congress and bjp ,सिर्फ़ और सिर्फ़ सत्ता की राजनीति कर रही है ।
इनका एक मात्र सिद्धांत येन केन प्रकारेड सत्ता हासिल करना है । 
जिन राज्यों में विधान सभा चुनावों का एलान हुआ है उनमें कमोबेस यही स्थिति दिखायी दे रही है ।
केरल में congress और left parties एक दूसरे के ख़िलाफ़ मैदान में हैं राहुल गांधी और मुख्य मंत्री विजयन एक दूसरे की खुली आलोचना कर रहे हैं 
राहुल गांधी केरल से सांसद भी हैं और congress संघटन पर भी केरल लॉबी का दबदबा है 
वैसे भी केरल की सत्ता udf और ldf के वीच में हस्तांतरित होती रही है इसलिए congress को वहाँ पर ज़्यादा वेहतर सम्भावना दिखायी दे रही है ।
लेकिन वेस्ट bengal के चुनाव में congress  और left ममता और भाजपा के मुक़ाबले एक साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं 
West bengal में ममता की दस साल से सरकार है पिछले लोक सभा चुनाव में भाजपा को 40 फ़ीसदी वोट मिले थे 
भाजपा को वहाँ सत्ता मिलती दिखायी दे रही है शायद यही कारण है की भाजपा ने सत्ता और संघटन की पूरी ताक़त झोंक दी है 
सत्ता हथियाने की इस दौड़ में भाजपा ने उन ज़्यादातर दागी tmc नेताओं को भी अपने दल में मिला लिया है जो ममता बनर्जी सरकार के कथित घोटालों में भी शामिल थे और जाँच के दायरे में हैं
भाजपा एक तरफ़ उन्ही कथित घोटालों को मुद्दा बनाकर ममता को सत्ता से वेदख़ल  करना चाहती है practically कहा जा सकता है की north east की तरह वेस्ट bengal में भी भाजपा दूसरे दलों के आयातित नेताओं की मदद से चुनाव में है अटल जी के वक्त तो ममता बनर्जी भी nda का हिस्सा थी और केंद्र सरकार में मंत्री थीं ।
ठीक यही स्थिति तमिल नाडु की राजनीति में दिखायी दे रही है  ।भाजपा वहाँ पर aiadmk और congress  dmk के कंधे पर वैठ कर चुनाव में उतर रही है ।कई दशकों की कोशिस के वावजूद दोनो national parties कोई ख़ास जनाधार नहीं बना पायी हैं।
असम में भाजपा सत्ता में है और अपनी सत्ता बचाए रखने की जुगत में है असम भाजपा में भी आयातित नेताओं की बहुतायत है ।Congress ने इस बार नए नए local parties से तालमेल किया है ।
पांडिचेरी में तो कांग्रिस की ही सरकार थी चुनाव के एलान के ठीक पहले वहाँ की सरकार को defection करवाकर गिरवा दिया गया था । किरण वेदी के जरिये वहाँ की सरकार को लगातार परेशान कराया जाता रहा ।देखना है इस बार वहाँ की जनता किसको चुनती है ।
महाभारत में भगवान कृष्ण ने अर्जुन को ज्ञान देते हुए कहा था कि राजनीति और लड़ाई में सब जायज़ होता है ।
ऐसा लगता है की दोनो National parties के नेताओं ने गीता ज्ञान को अपना लिया है और सत्ता ही परमो धर्मों के मार्ग पर चल रहे हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें