गुरुवार, 7 जनवरी 2021

Trump. violence

अमेरिका में ट्रम्प समर्थकों द्वारा किया गया हंगामा और violence दुनिया के तमाम democratic countries के लिए एक सबक़ है ।ऐसे वारदातों और इस सोच के नेताओं से अन्य लोकतांत्रिक देशों की जनता को सावधान रहना चाहिए ।
अमेरिकी इतिहास पर अगर नज़र डालें तो इस तरह का हंगामा 1812 में अंग्रेज़ी हुकूमत के ख़िलाफ़ हुआ था 
अमेरिका पूरी दुनिया में araenal of democracy ke नाम से मशहूर रहा है पूरी दुनिया लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए अमेरिका का उदाहरण देती रही है 
लेकिन जो दुर्गति पिछले कुछ वर्षों में ट्रम्प के नेतृत्व में अमेरिका की हुई है वह शायद ही इसके पहले कभी देखने को मिली हो 
Industrialist turn politician donald trump ने अपने whimsical abd short sighted policies की वजह से पूरी दुनिया में अमेरिका की फ़ज़ीहत करवाई है 
और अब जाते जाते भी Washington d c में हंगामा और हिंसा करवाकर अमेरिकी इतिहास में अपना नाम एक निहायत ना समझ  
बददिमाग़ president के रूप में दर्ज करवा लिया 
ट्रम्प के इस कृत्य का विरोध पूरी अमेरिका की  पोलिटिकल जमात के अलावा दुनिया के दूसरे मुल्कों के उनके पुराने मित्र  नेताओं ने भी की है जो कल तक उनके साथ गल बहियाँ करते दिखायी दे रहे थे 
अभी भी दो हफ़्ते का वक्त है ट्रम्प को graceful  तरीक़े से अपनी हार मानकर president की ज़िम्मेदारी newly elected Biden और उनकी टीम को सौंप देनी चाहिए 
और Washington d c में कराए गए हंगामा और हिंसा के लिए अमेरिका सहित दुनिया के सभी democratic countries की जनता से माफ़ी माँगनी चाहिए

1 टिप्पणी: