रविवार, 13 दिसंबर 2020

Bjp vs Congress

क्या भाजपा congress के नक्से कदम पर चल रही है?क्या नरेंद्र मोदी जी इंदिरा जी की तरह काम कर रहे हैं?
देश में आर्थिक liberalisation (new economic policy) की शुरुआत तो p v narsimha rao ji ने ही की थी 
मन मोहन सिंह और नरेंद्र मोदी जी तो उन्ही नीतियों और कार्य क्रमों को आगे ले जाने की कोशिस कर रहे हैं 
कार्य शैली और भाषा शैली ज़रूर अलग दिखायी दे रही है 
अड़ानी अम्बानी सरीखे उद्योग पतियों की पदाईस क्या महज़ साड़े छह सालों की दे न है?
Crony capitalism को patronage तो कांग्रिस पार्टी भी देती थी 
आज कल राहुल गांधी की language और राजनीति में कॉर्ल मार्क्स से लेकर पंडित 
दीनदयाल उपाधाय जी का दर्शन दिखायी दे रहा है 
Slogans coin करने और narrative की राजनीति करने का तरीक़ा भी पुराना है 
ग़रीबी हटाओ का नारा तो इंदिरा जी ने ही दिया था ये अलग बात है की ग़रीबों की तादाद साल दर साल बड़ती रही 
राहुल गांधी और उनके पार्टी के लोगों को भाजपा से मुक़ाबला करने के लिए उतनी ही मेहनत करनी पड़ेगी जितनी भाजपा कर रही है 
दूसरी तरफ़ भाजपा को भी अपना मूल चरित्र बचा कर रखना होगा party with a difference भाजपा की असली ताक़त रही है 
ऐसा लगता है कि “कामयाबी हर क़ीमत पर “के रास्ते पर चल चुकी भाजपा धीरे धीरे अपने मूल स्वरूप और दर्शन से दूर होती जा रही है 
सिद्धांत और दर्शन विहीन कोई भी राजनैतिक दल खुद को लम्बे वक़्त तक relevant नहीं बनाए रख सकता 
समय के साथ उस दल का भी वही हश्र हो सकता है जो हश्र 135 साल पुरानी congress पार्टी का देखने को मिल रहा है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें