शनिवार, 15 अगस्त 2020

uttar pradesh

उत्तर प्रदेश और बिहार में आने वाले समय में विधान सभा के चुनाव हैं
शायद इसीलिए सभी दलों के नेता एक बार फिर सक्रिय हैं 
जाति और धर्म का सहारा लेकर मतों के polarisation की कोशिस चल रही है script aur 
Formula पुराना है किरदार बदल गए हैं 
भाजपा की तरफ़ से इस बार मोदी योगी और अमित शाह जी टीम है 
दूसरी तरफ़ अखिलेश यादव प्रियंका गांधी मायावती और आम आदमी पार्टी से संजय सिंह हैं 
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए एक बार फिर भूमि पूजन और शिलान्यास हो चुका है 
समाजवादी पार्टी इटावा में कृष्ण और लखनऊ में परशुराम की मूर्ति लगवाने का ऐलान कर चुकी है 
मायावती ने भी ब्राह्मण समाज के ढेर सारे ऐलान किए हैं फ़िलहाल तो उन्होंने अभी अपनी ही कुछ मूर्तियाँ लखनऊ के प्रेरणा केंद्र में लगा ली है 
इस दौड़ में संजय सिंह भी शामिल हैं उन्होंने योगी सरकार पर जाति वादी होने के गम्भीर आरोप लगाए हैं 
उत्तर प्रदेश के chief secretary d g p aur additional chief secretary sabhi brahmin hain phir bhi yogi sarkar par el jati vishes ke liye kam karne ke arop hain 
संजय सिंह के मुताबिक़ भाजपा से 58 ब्राह्मण विधायक है उनका दावा है की ब्राह्मण विधायक भी नाराज़ हैं 
इन घटनाओं और बयानो से v p singh ke daur ki rajniti yaad aa rahi hai 
Pradhanmantri ke rup me apni sarkar vachane ke liye v p singh ne mandir card ke mukabale mandal card lagu kar diya tha 
Wavjud iske unki sarkar to nahi vachi lekin desh aur samaj ko bhari nukshan uthana pada tha 
संजय  सिंह और बाक़ी नेताओं की राजनीति देश और समाज को एक वार फिर उसी तरह के हालात की ओर ले जा रही है 
आर्थिक और करोना महामारी के चलते तबाही झेल रहे प्रदेशों और मुल्क को एक नए तरीक़े के संकट में धकेलने से बचना चाहिए 
समाज देश और लोकतंत्र अगर बचा रहा तो राजनैतिक सत्ता तो आगे पीछे मिलती ही रहेगी वक़्त की नज़ाकत इस समय आर्थिक और करोनामहामारी से एक जुट होकर लड़ने की है इसके लिए साम्प्रदायिक और सामाजिक सद्भाव की  बेहद अवस्यकता है 
सियासी दलों से गुज़ारिश है की खुदा के लिए आने वाली नस्लो को तबाही से बचाने की कोशिस करें

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें