सोमवार, 3 अगस्त 2020

covid 19

जो काम कॉर्ल मार्क्स से लेकर दुनिया के तमाम समाजवादी - communist philosophers नहीं कर पाए उस काम को चीन के मौजूदा हुकूमत ने कर दिखाया है 
कोविद19 के ज़रिए दुनिया में मौजूद ग़ैर बराबरी को एक ही झटके में समाप्त कर दिया है 
कोविद १९ के सामने आमिर ग़रीब राजा रैंक सब बराबर हैं यह महामारी सबको एक नज़र से देख रही है 
धर्म के ठेकेदारों और देवी देवताओं के प्रति भी कोविद १९ का नज़रिया समता मूलक है
चीन के rastrapati zi zin ping ने दुनिया  के सम्पूर्ण मानव समाज को covid 19 के रूप में चमत्कारी तोहफ़ा दिया है 
इस तोहफ़ा के माध्यम से उन्होंने एक बार फिर आस्तिक और नास्तिक के debate ko ज़िंदा कर दिया है 
अब तय सम्पूर्ण मानव समाज को करना है कि
Rationality vs superstition में कौन सा मार्ग बेहतर है
जिस bilogical weapons of mass destruction का आरोप लगा कर अमेरिका ने इराक़ और वहाँ के president सद्दाम हुसैन को मारा था वही अमेरिका covid १९ के सामने ज़मीन पर लेटे हुए नज़र आ रहा है चीन के real virus ने दुनिया के dictators  arrogants god’s goddesses  और धर्म के ठेकेदारों के सामने जो चुनौती पेश की है उसका जवाब तो फ़िलहाल किसी के पास नहीं है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें