शनिवार, 30 मई 2020

America

दुनिया के कितने देश अमेरिका की मदद से तरक़्क़ी किए हैं?
इतिहास तो कुछ और ही सबक़ देता है
Soviet Russia से लेकर afganistan इराक़ सहित तमाम मुल्कों में अमेरिकी दखलंदजी के बाद स्थितियाँ और ख़राब हुयी हैं
पाकिस्तान की मदद तो अमेरिका कई दशकों से कर रहा है
वहाँ की राजनैतिक और आर्थिक हालात से सब वाक़िफ़ है
Soviet union का विघटन भी वहाँ के अंतिम president Mikhail Gorbachov के ज़रिए अमेरिका ने ही करवाई थी
Gorbachov को noble peace prize देकर
अमेरिकी चका चौध में फँसे नेताओं को इतिहास से सबक़ ज़रूर लेना चाहिए
अमेरिका को ना तो किसी धर्म से लेना देना है और ना तो इंसान से 
उसका कभी भी कोई दिन ईमान नहीं रहा है
उसका मक़सद सिर्फ़ अपना कारोबार बढ़ाना रहा है 
दुनिया के मुल्कों को अपने पड़ोसियों स ज़्यादा अमेरिका से सावधानरहना चाहिए

covid 19

इबादत गाहों और पूजा स्थलों को खोलने का फ़ैसला स्वागत योग्य है 
Covid 19 का अभी तक कोई इलाज नहीं है
इस तथ्य को पूरी दुनिया मान चुकी है
अब सब कुछ भाग्य और भगवान भरोसे है
भारत में तो पहले से ही सब कुछ  भगवान पर छोड़ दिया जाता है
माना जाता है की लगभग 140 crores के देश में 84 crore देवी देवता हैं
ऐसे में भारत के लोगों को किसी महामारी से डरने की ज़रूरत नहीं है
अब तो हम covid 19 को भी पराजित कर लेंगे ठीक उसी तरह 
जिस तरह से हमने अभी तक महँगाई बेरोज़गारी बिगड़ती अर्थ व्यवस्था को क़ाबू किया है 
उसी तरह से आतंक वाद naxalvad और पाकिस्तान नेपाल और चीन पर भी नकेल कसने में कामयाब होंगे
आख़िर हम सबको 84 crore देवी देवताओं के अलावा ट्रम्प साहेब का भी साथ और आशीर्वाद प्राप्त है
इबादत गाहों और पूजा स्थलों के खुलने से लाखों धर्म गुरुओं को भी आर्थिक लाभ होगा 
तालाबन्दी के चलते उनकी अर्थ व्यवस्था भी हिल गयी थी 
आख़िर में अब उनका आशीर्वाद भी हमारे साथ होगा और हम negativity se positivity की तरफ़ बड़ेंगे

शुक्रवार, 29 मई 2020

indo America china

कूटनीति की सबसे पथरीली राह पर भारत....कहां चूके हम ?                                                                                                                                                                              https://bit.ly/2BeDv6R

गुरुवार, 28 मई 2020

America election

भारत अमेरिका के रास्ते पर कितना चल रहा है ये तो debate का मुद्दा हो सकता है लेकिन अमेरिका में ज़रूर भारत की तरह कार्य हो रहें है
ट्रम्प साहेब अपनी हर आंतरिक विफलता को छिपाने के लिए चीन को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं
अमेरिका में भी चुनाव होने वाला है ट्रम्प साहेब अभी तक अपना पिछला चुनावी वायदा पूरा नहीं कर पाए हैं
अगला चुनाव जितने के लिए नये नारों की ज़रूरत है इसलिए वे हर मर्ज़ के लिए चीन को ज़िम्मेदार ठहरा रहे है
ट्रम्प की leadership में अमेरिका हर मोर्चे पर कमज़ोर दिखायी दे रहा है उनकी economy foreign policy सब fail रही है वेरोज़गारी बड़ी है
ऐसे में social divide aur provocative slogans के ज़रिए  ही वे चुनाव में जाने की तैयारी में हैं
अब देखना है कि अमेरिकी जनता ट्रम्प साहेब पर दुबारा भरोसा करती है या नहीं
वैसे अमेरिका में भी भारत की तरह opposition की हालत बेहद कमज़ोर है
TINA factor(there is no alternative) का लाभ आने वाले चुनाव में ट्रम्प साहेब को भी मिल सकता है

बुधवार, 27 मई 2020

nehruvian model

"नेहरू नीति" सदा काम आए, जान भी न जाए...जहान भी बचाए !                                                                                                                                                                                   https://bit.ly/2TGzn63

मंगलवार, 26 मई 2020

Covid 19

कोरोना काल-चुनावी साल...और बदल गई सियासी चाल !                                                                                                                                                                                     https://bit.ly/3ewJjqP

सोमवार, 25 मई 2020

p m care

AAJ KA MUDDA : कोरोना की आड़ में साजिश तो नहीं ? || Deepali Shukla
                                                                                                                                 https://youtu.be/mqVsqxIxEpk

शनिवार, 23 मई 2020

mahendra pande

Union Minister Mahendra Nath Pandey Exclusive - Samvaad With vasindra Mishra
                                                                                                                              https://youtu.be/W7NUAl_JJXQ

शुक्रवार, 22 मई 2020

conflict

AAJ KA MUDDA : विदेश नीति में कहाँ हो रही है चूक ? || Deepali Shukla
                                                                                                                                                                                            https://youtu.be/DdXDrf40l1c

former union finance minister

Former Union Minister Yashwant Sinha Exclusive || Samvaad With Vasindra Mishra
                                                                                                                            https://youtu.be/WWb6C1PBw2w

indo nepal

कहां चूके हम...और बिगड़ गई बात !                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                      https://bit.ly/2WTaVQR

शनिवार, 16 मई 2020

u p

Dinesh Sharma Deputy CM of Uttar Pradesh Exclusive - Samvaad with Vasindra Mishra
                                                                                                                                          https://youtu.be/2RbtG38QY7w

शुक्रवार, 15 मई 2020

pankaj singh

BJP NOIDA MLA Pankaj Singh - SAMVAAD WITH VASINDRA MISHRA
                                                                                                                              https://youtu.be/uF9WKWD5wS4

union minister

RAM VILAS PASWAN 2020 LIVE : देखिये संवाद, वासिंद्र मिश्रा के साथ
                                                                                                                                             https://youtu.be/NzXRV__x51Y

Goa

Goa CM Pramod Sawant Exclusive | Samvaad With Vasindra Mishra | Lockdown का गोवा पर कितना असर ?
                                                                                                                                 https://youtu.be/gAiid4zeYgk

गुरुवार, 14 मई 2020

bihar

Bihar के DGP Gupteshwar Pandey Exclusive : बताया - कैसे बदली पुलिस की इमेज
                                                                                                                                          https://youtu.be/q032L2sBExg

u k

Harish Rawat Exclusive : कहा - केंद्र को विपक्ष के साथ बेहतर तालमेल की जरुरत
                                                                                                                                                           https://youtu.be/4jqfFxz-yzo

union minister

Arjun Ram Meghwal Exclusive : भारी उद्योगों को मंदी से उबारने का प्लान ?                                                                                                                                                                                                                                                               https://youtu.be/P9Lp-eIku_4

Phobia

फ़िज़ा में 'ज़हर' भरा है, जरा संभल कर चलो ! 

वैश्विक महामारी के तौर पर पूरी दुनिया को अपने शिकंजे में लगातार कसता जा रहा है कोरोना वायरस...लेकिन इस मुश्किल काल में वायरस के डर की बजाय दुनिया अलग ही तरह के डर के माहौल को पालने-पोसने में जुटी हैं...हालांकि इसके पीछे की वजह भी कम दिलचस्प नहीं....कहते हैं कि जब खुद नाकामियां भारी पड़ने लगें तो सामने वाले को जिम्मेदार ठहराकर उसी पर पूरा ठीकरा फोड़ दो...फिर कैसी जवाबदेही और कैसा समाधान?...बिल्कुल वैसे ही जैसे सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे। 
मौजूदा दौर में चीन और अमेरिका के बीच जो चल रहा है वो कुछ ऐसा ही इशारा करता है...हालांकि हमारा देश में इसमें पीछे नहीं...कोरोना संकट के इस दौर में डर या कहें कि पूर्वाग्रह के एक ऐसे ही रूप का सामना हमने भी किया...या फिर कहें कि अभी भी इसका प्रचार-प्रसार जारी है...नाम है इस्लामोफोबिया.. सवाल ये है कि अगर हम इस संक्रमण में उलझ गए तो कोरोना के असल संक्रमण को कौन रोकेगा ?
फोबिया जैसे भारी भरकम शब्दों की आड़ में असल समस्या से मुंह मोड़ना कितना आसान हो चला है...ये और बात है कि पीएम समेत कई संगठनों ने ऐसे जुमलों से बचने की सलाह दी लेकिन लंबे चले ऐसे दुष्प्रचारों ने देश में एक खाई तो बना ही है...कोरोना के खिलाफ लड़ाई तो जारी है लेकिन खेमेबंदी की जद में...अब ये कितनी कारगर होगी...आगे पता चलेगा...लेकिन माहौल बिगड़ा इसमें कोई दो राय नहीं।   
उससे भी बड़ी जंग दिख रही है वैश्विक स्तर पर...जहां कोरोना ने सुपरपावर अमेरिका को वो आइना दिखाया है जिसकी कल्पना भी कभी नहीं की होगी..ट्रंप प्रशासन का हर हथियार कोरोना के आगे फेल हो रहा है वो भी चुनावी मौसम में..लिहाजा निशाने पर आ गया चीन...जहां से कोरोना फैला...इस बात में कोई शक नहीं कि चीन दुनिया का गुनहगार है लेकिन जिस तरह से अमेरिका में और अब पूरी दुनिया में ट्रंप प्रशासन 'चीन फोबिया' की आड़ में अपनी नाकामियों का ठीकरा चीन के सिर मढ़ रहा है वो बताता है कि फोबिया की ये सियासत भी कम दिलचस्प नहीं।
ग्रीक भाषा के शब्द 'फोबिया' से जुड़ा विश्व सियासत का इतिहास बेहद रोचक रहा है ...याद कीजिए ये तमाम जुमले- CIA फोबिया,ISI फोबिया,RAW फोबिया Hamas फोबिया,Mosad फोबिया, Islamophobia, China फोबिया,Pakistan फोबिया...और न जाने कितनी ही प्रजातियां...जिन्हें तमाम देशों के हुक्मरानों ने न केवल गढ़ा बल्कि जनता की नज़र के धोखे के तौर पर पाला-पोसा भी।
अगर दुनिया के आधुनिक इतिहास की घटनाओं का उल्लेख करें तो भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को कौन नहीं जानता....आयरन लेडी के तौर पर  पहचान रही उनकी...विपक्षी भी उन्हें दुर्गा कहा करते थे...बावजूद इसके जब भी वो ख़ुद को राजनैतिक तौर पर घिरा पाती थीं तो देश की आंतरिक समस्याओं के लिए भी बार बार अमेरिका और उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी CIA का नाम लिया करती थीं...फिर सियासत और चाटुकारिता तो हमेशा से ही एक दूसरे के पर्याय रहे हैं..लिहाजा समर्थक आंख मूंद कर अपने नेता को खुश करने में कोई कसर नहीं छोड़ते...ऐसा उस दौर में भी दिखा को...जब कांग्रेस पार्टी के तमाम नेता भी रोज़ कहीं न कहीं CIA के खिलाफ बोलते मिल जाते थे...एक नेता तो संसद के भीतर CIA विरोधी तख्ती लेकर जा पहुंचे ..फिर तो खुद इंदिरा जी को सामने आकर उन्हें रोकना पड़ा...पड़ोसी देश पाकिस्तान भी गाहे बगाहे इसी राह पर निकल पड़ता है...जब देश की अंदरूनी मुश्किलें बेकाबू हो जाती हैं तो भारतीय खुफिया एजेंसी RAW को जिम्मेदार बताने लगता है...वहीं कई बार भारत में भी दिख जाती है ISI फोबिया या Pakistan फोबिया की तस्वीर।  
कुल मिलाकर लब्बोलुआब ये है कि दुनिया के ज़्यादातर हुक्मरान अपने मुल्क की आंतरिक समस्याओं से अपनी जनता का ध्यान भटकाने के लिए पड़ोसी मुल्कों को ज़िम्मेदार ठहराते रहे हैं...हालांकि ये उस देश की जनता के राजनैतिक विवेक पर भी निर्भर करता है कि वह अपने शासक कि किन बातों पर कितना भरोसा करती है ?
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी कहा करते थे कि तुम्हें अपना पड़ोसी चुनने या उसे नकारने का अधिकार नहीं है इसलिए पड़ोसी के साथ अच्छा रिश्ता रखने की कोशिश हमेशा होती रहनी चाहिए। इतिहास में कई उदाहरण ऐसे भी हैं जब एक देश ने दूसरे देश पर आक्रमण करके भौगोलिक और क्षेत्रीय नक्शे को बदलने की कोशिश की लेकिन इन कामों को बहुत अच्छा नहीं माना गया...बड़े बड़े दार्शनिक भी "love thy neighbour" की नीति के समर्थक रहे हैं....यानि मानवता के कल्याण और विकास के लिए दुनिया को सिर्फ शांति,सद्भाव और भाईचारे की डोर से ही बांध रखा जा सकता है...कम से कम covid-19 महामारी ने तो यही सबक़ दिया है...हालांकि दौर में दुनिया और उसकी सियासत जिन घुमावदार रास्तों से गुजर रही है उसे देखकर तो यही कहा जा सकता है :
फ़िज़ा में ज़हर भरा है जरा संभल कर चलो,
मुखालिफ आज हवा है जरा संभल कर चलो,
कोई देखे न देखे बुराइयां अपनी...
खुदा तो देख रहा है जरा संभल कर चलो।

- वासिन्द्र मिश्र

बुधवार, 13 मई 2020

Bihar

Chirag Paswan Exclusive - बिहारी मजदूरों की समस्या पर ख़ास बातचीत | Vasindra Mishra | संवाद
                                                                                                                                     https://youtu.be/1_wfP31f0n0

uttarakhand

Trivendra Singh Rawat Exclusive - Uttrakhand में Coronavirus और Lockdown से उपजे हालातों पर बात                                                                                                                                 https://youtu.be/44CQZfWeIOA

मंगलवार, 12 मई 2020

bonded labour

Swami Agnivesh Exclusive : श्रम कानून में बदलावों पर भड़के, कहा - ये नामंजूर
                                                                                                                                                  https://youtu.be/R3P0cgHT_7E

indian wrestling sangh

BRIJ BHUSHAN SHARAN SINGH - MP kaisarganj Exclusive on Jantantra TV
                                                                                                                                     https://youtu.be/Jit7eQZAd0g

सोमवार, 11 मई 2020

unconstitutional

ये बंधुआ मज़दूरी की आहट तो नहीं ?                                                                                                                                             https://bit.ly/2Lgmz1l

रविवार, 10 मई 2020

poverty -kovid 19

ग़रीब हमारी देश की मेरुदंड हैं .ग़रीबी भले ही मत हटायिए लेकिन ग़रीबों को ज़रूर बचायिए.
ग़रीबों के लिए पैसा लेकर ट्रेन चलाने का फ़ैसला स्वागत योग्य है
देश के रेल मंत्री पीयूष गोइल पेशे से c a हैं 
उन्हें balance sheet तैयार करने मे महारत हासिल है
उनकी योग्यता को भाँपकर ही उन्हें रेल और commerce मंत्रालय की ज़िम्मेदारी दी गयी है
पीयूष जी भाजपा के ख़ज़ांची भी रहे हैं 
आशा है की वे party की तरह रेल को भी महामारी के बावजूद साधन सम्पन्न बनाने मे कामयाब होंगे 
पीयूष जी भी पंडित दीन दयाल जी के एकात्म मानववाद की philosophy मे भरोसा रखते है
दीन दयाल जी तो दरिद्र नारायण की सेवा और कल्याण को ख़ास महत्व देते थे 
नेहरु गंधी लोहिया से भले ही परहेज़ हो लेकिन दीन दयाल जी की philosophy तो  सभी को स्वीकार्य है
पीयूष जी ने ट्रेनचलाने की इछा ट्वीट के माध्यम से ज़ाहिर की है
उनके मुताबिक़ प्रधान मंत्री जी ने उनको निर्देशित किया है
ग़रीबों के दर्द को प्रधान मंत्री जी से बेहतर कौन समझ सकता है
जाके पाँव ना फटे बवाई
सो का जाने पीर पराई
एक बर फिर ग़रीबों की चिंता करने के लिए धन्यवाद
देर आये दुरुस्त आये।
दूसरी ख़ास वजह देश मे होने वाले कई राज्यों के चुनाव भी तो हैं
ग़रीब और ग़रीबी के सवाल पर देश मे पहले भी चुनाव होते रहे है
इन्दिरा जी ने तो इसी को मुद्दा बनाकर चुनाव जीता
उनका नारा होता था 
“हम ग़रीबी हटाना चाहते है
और वे हमको हटाना चाहते है”
ग़रीबी तो साल दर साल बड़ती रही लेकिन इंदिरा जी सट्टा मे बनी रहीं
ग़रीबी की बात तो तमाम समाजवादियों ने भी अपने ढंग से की और सत्ता का सुख भोगा
इसलिए भी ग़रीबों को बचाना ज़रूरी है
मंदिर विवाद अब सुलझ गया है
देर सबेर महामारी भी परास्त हो ही जायेगी
फिर पाकिस्तान के अलावा हमारे पास बचेगा क्या जिसको मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ा जायेगा
पाकिस्तान को सबक़ सिखाने के लिए  तो dobhal जी और विपिन रावत जी सकछम और समर्थ है 
साथ में हमारी सेना चौकस और चौकन्नी है
हमारी सेना की वीरता पराक्रम का लोहा पुरी दुनिया मानती है

शनिवार, 9 मई 2020

Haryana

EX CM Haryana Bhupinder Singh Hooda Exclusive - Haryana में कोरोना संकट पर बात
                                                                                                                                        https://youtu.be/bsWy8Bdk4bM

शुक्रवार, 8 मई 2020

strategy and road map?

17 मई के बाद की रणनीति क्या ? | EX UP DGP OP Singh | Vasindra Mishra | Deepali Shukla | AAJ KA MUDDA
                                                                                                                                 https://youtu.be/FwvkDw9_PCs

गुरुवार, 7 मई 2020

economy

मजदूरों के बिना दुबारा कैसे बसेगा उद्योगों का जहान ? AAJ KA MUDDA
                                                                                                                                    https://youtu.be/JMvZy_OAOwU

workers are spines of world economy

Covid 19 ने दुनिया की सर्व शक्तिमान समझने वाले पूंजीवादी व्यवस्था को ध्वस्त कर दिया है। महामारी के इस दौर में एक बार फिर ये साबित हुआ है कि मानवता और शाशन प्प्रशासन के लिए पब्लिक सेक्टर ही एक मात्र संकट मोचक  रहा है। चाहे दैवी आपदा हो या आर्थिक महामारी पूरी व्यवस्था गरबी मजलूम वंचित लोगो के ही कंधे पर टीकी हुए है।

कार्ल मार्क्स के दर्शन का मज़ाक उड़ाने वाले लोगो को भगवान राम के जीवन से शिक्षा लेनी चाहिए । भगवान राम ने भी राक्षशी ताकतों से कामियाबी समाज के इन्हें वर्गो के सहयोग से हाज़िल की थी । सीता को खोजने से लेकर रावण को हराने तक में इन्हें ताकतों ने भगवान राम की मदद की थी। "हे खग मृग हे मधुकर सैनी क्या तुम देखे सीता मृगनैनी " ये चौपाई तुलसी दास जी ने राम चरितमानस में राम के हवाले से लिखी है जब राम लक्ष्मण के साथ सीता की खोज में दर दर भटक रहे थे तब उन्होंने इन्हें जीव जंतु से सीता का ठिकाना पूछ रहे थे।

इस महामारी के पहले तक पूरी दुनिया निजीकरण की तरफ भाग रही थी। एक नही सैकड़ो बार इंसानियत और समाज के लिए मददगार साबित हो चुकी सार्वजनकि क्षेत्रो की कंपनियों को बेचने और बंद करने की होड़ लगी हुई थी ।

लेकिन इस ही महामारी में इन्हें कंपनियों ने मानवता और  अर्थव्यवस्था को बचाने में कारगर भूमिका निभाई है ।आज सार्वजनकि सेक्टर की एयरलाइन्स हॉस्पिटल ट्रांसपोर्ट और दवा बनाने वाली कंपनिया ही इस महामारी की चुनौती का सामना के रही है।
पूंजीवादी व्यवस्था के पोषक और उनकी कंपनिया ताला बंद कर के भगवान और उन्ही मजदूरों से जान की दुहाई मांग रहे है।

पिछले 2 दिनों से कर्नाटक के CM और भारत सरकार का श्रम मंत्रालय मजदूरों से अपनी अपनी जगह रुके रहने की अपील कर रहा है। वही श्रम मंत्रालय कल तक इन मजदूरों की अनदेखी कर रहा था । आज मजदूरों के सहयोग से देश की बर्बाद हो चुकी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा है।

" मजदूर है तो अर्थव्यवस्था है।
और अर्थव्यवस्था है यो जान है।"

"जान है तो ज़हान है"
और हमें जान भी चाहिए और ज़हान भी चाहिए

शुक्रवार, 1 मई 2020

congress

RPN Singh - EX Union Minister Exclusive on JantantraTV With Vasindra Mishra
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            https://youtu.be/vom03Bp9ZEI

Uttar Pradesh

Surya Pratap Shahi - UP Agriculture Minister Exclusive on JantantraTV
                                                                                                                                  https://youtu.be/9e4TIk2gM4w