बुधवार, 8 अप्रैल 2020

covid 19 india

चीन से चला karona भारत आते आते वह भी कम्यूनल हो गया 
यह पर उसको भी मज़हब और फ़िरक़ों में बाँट दिया गया है 
कोई तजुब नहीं आगे चलकर उसको जातियों और उपजतियों अगड़ों और पिछड़ों में बात दिया जाय
फ़िलहाल अमेरिका उसको पहले से ही चायनीज़ वाइरस कहता रहा है 
वही अमेरिका जो सद्दाम हूसेन के वक़्त में रोज़ इराक़ में bwmd बाययलॉजिकल वेपंज़ होने की बात कहता था 
और इनहि आरोपों को लगाकर इराक़ का विध्व्न्स किया था वहाँ के rastrapati सद्दाम हूसेन को फाँसी भी दिलवा दिया था 
लेकिन Bwmd के नाम पर आज तक कुछ भी रिकवर नहीं हुआ
Carona भी एक महामारी है अपने वक़्त से चला जाएगा इसके पहले आये epidemics की तरह 
लेकिन इस महामारी से निपटने के तौर तरीक़ों इंसानी behaviour और अड्मिनिस्ट्रेटिव कारगुजरियों पर बाद में समिछा ज़रूर होगी 
भारत तो हमेशा से प्यार अहिंसा भाई चारे का हिमायती रहा है
लेकिन आज उसी भारत में वाइरस को लेकर अमेरिका जैसे heartless देश के नकसे क़दम पर  चलने की कोशिस कही से हमारे हज़ारों साल पुरानी परम्परा और विरासत के अनुरूप नहीं है 
इस महामारी से एकजुट होकर पूरी ताक़त ऐ लड़ना हमारा धर्म है और कर्तव्य भी 
लेकिन इंसानी रिश्ते और इंसानियत सर्वोपरि  होना चाहिए

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें