सोमवार, 13 जनवरी 2014

ये इश्क़ नहीं आसां...

इन दिनों दो चीजों की चर्चा बहुत तेज़ है.. पहली अभिषेक चौबे की उत्तर प्रदेश के बैकड्रॉप पर बनी फिल्म डेढ़ इश्किया की और दूसरी फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांड के इश्क की । डेढ़ इश्किया फिल्म में अरबी मान्यता के हिसाब से इश्क में आने वाले सात मुकामों दिलकशी, उन्स, मुहब्बत, अक़ीदत, इबादत, जुनून और मौत को दिखाया गया है .... तो वहीं फ्रांस के एक लोकल मैगजीन के दावे के मुताबिक इश्क ने फ्रांस्वा ओलांड को इतना जुनूनी बना दिया है कि वो अपनी माशूका जूली गाएत से मिलने के लिए महज एक सिक्युरिटी गार्ड के साथ स्कूटर से उनके घर तक चले जाते हैं ।
59 साल के फ्रांस्वा ओलांड के 41 साल की जूली गाएत के साथ इश्क के चर्चे सुनने के बाद उनकी संगिनी वालेरी त्रिरवाइलर अस्पताल पहुंच गई हैं । हालांकि फ्रांस के रहने वाले लोगों के लिए देश के राष्ट्रपति का ये रोमानी अंदाज़ नया नहीं है निकोलस सरकोज़ी और कार्ला ब्रूनी के बीच का इश्क लोग भूल नहीं पाए होंगे । तकरीबन 57 साल की उम्र में निकोलस सरकोज़ी ने अपनी दूसरी पत्नी से तलाक के महज एक महीने के बाद कार्ला से नाता जोड़ लिया था और एक साल बीतते-बीतते दोनों ने शादी कर ली थी ।
इटली के प्रधानमंत्री रहे सिल्वियो बर्लुस्कोनी के इश्क ने भी कई बार सुर्खियां बटोरी हैं .. बर्लुस्कोनी ने वेरोनिका लॉरियो से इश्क के बाद शादी की थी .. शादी 22 साल चली लेकिन इसका दुखद अंत हो गया और इसकी वजह बना सिल्वियो बर्लुस्कोनी के विवाहेतर संबंध । 77 साल के बर्लुस्कोनी का नाम इन दिनों तकरीबन 22 साल की फ्रैंसेस्का पैस्केल से जुड़ रहा है .. हालांकि उनके तलाक़ की वजह एक 18 साल की भावी मॉडल थी जिसके साथ बर्लुस्कोनी का नाम जुड़ा था। ऐसी ही नाबालिग लड़कियों से इश्क की खबरों की वजह से उनका 22 साल का रिश्ता टूट गया। बाद में भ्रष्टाचार के आरोप में बर्लुस्कोनी को इटली की संसद से निलंबित कर दिया गया ।
 
बिल क्लिंटन और मोनिका लेविंस्की के इश्क की खबरों ने भी इतनी ही सुर्खियां बटोरी थीं । 21 साल की इंटर्न से जब दुनिया के सबसे ताकतवर देश के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन को इश्क हुआ तो फिर उन्हें इसकी परवाह नहीं रही कि आगे क्या होगा ? इस इश्क का असर राष्ट्रपति पर लाए महाभियोग के रूप में दिखा .. बिल क्लिंटन को 90 हज़ार डॉलर का जुर्माना भी भरना पड़ा । मोनिका लेविंस्की अलग हो गईं लेकिन उन्होंने शादी नहीं की ... इधर क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन ने उन्हें माफ कर दिया और बिल क्लिंटन अपनी दुनिया में वापस लौट गए ।
इश्क वो चीज हैं जो ना तो ओहदा देखता है ना ही उम्र .. दुनिया भर में सुर्खियां बटोरने वाले ये रिश्ते इसकी ताकीद करते हैं । ये गज़ल तो याद होगी ... इश्क कीजिए फिर समझिए जिंदगी क्या चीज है...  शायद इश्क के बहाने इन ताकतवर लोगों ने भी जिंदगी को समझने की कोशिश की होगी । हालांकि भारत में भी तमाम राजनेताओं के इश्क के किस्से गाहे-बगाहे सुर्खियां बटोरते रहते हैं, लेकिन बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जो इन रिश्तों को सार्वजनिक तौर पर स्वीकार कर पाते हैं । कहा जाता है कि ब्रिटिश सत्ता से ट्रांसफर ऑफ पावर भी इतना Smooth नहीं होता अगर एडविना माउंटबेटन और नेहरु के बीच नजदीकियां नहीं रही होतीं । उनके इस इश्क से लॉड माउंटबेटन भी वाकिफ थे लेकिन उन्होंने कभी हस्तक्षेप नहीं किया बाद में एडविना की बेटी ने अपनी किताब में लिखा कि नेहरु और उनकी मां के बीच गहरा भावनात्मक लगाव था ।
हालांकि इसके बाद भी तमाम पूर्व प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों के इश्क के किस्से राजनीतिक गलियारों में घूमते रहे हैं लेकिन सार्वजनिक तौर पर ऐसे किस्से सुर्खियां नहीं बन पाए । शायद ये भारतीय समाज के ताने-बाने का असर है जहां विवाहेतर संबंधों को खुले तौर पर स्वीकार नहीं किया जाता, लेकिन इसका मतलब ये कतई नहीं है कि विवाहेतर संबंध नहीं होते । कई ऐसे प्रधानमंत्री रहे, जिनके इश्क ने उनके विरोधियों को पार्टी में ही उनके खिलाफ माहौल बनाने में मदद की । वहीं दक्षिण से लेकर उत्तर तक कई मुख्यमंत्रियों की, उनके इश्क के किस्सों की वजह से कुर्सी तक दांव पर लग गई।
इश्क आज का विषय नहीं है, इसकी वजह से युगों से बड़े-बड़े बदलाव होते रहे हैं । त्रेतायुग में सूर्पनखा नाम की राक्षसी का जब भगवान राम पर दिल आ जाता है और अपने प्रणय निवेदन के ठुकराए जाने पर गुस्से से लाल हुई सूर्पनखा हमला कर देती तो लक्ष्मण उसकी नाक काट देते हैं, इसीके प्रतिशोध के रूप में रावण, राम पर हमला कर देता है, नतीजा पृथ्वी से राक्षस जाति के विनाश के रूप में सामने आता है । महाभारत काल में द्रौपदी के लिए ही जंग छिड़ती है और कौरव-पांडव वंश के एक से एक योद्धा मारे जाते हैं ।  उसी काल में कृष्ण और राधा का इश्क भी सामने आता है, पूरे ब्रह्माण्ड को अपने वश में रखने वाले कृष्ण भी राधा के साथ रास रचाने मीलों दूर का सफर तय करते हैं ।

इश्क वो चीज़ है जिसने विश्वामित्र जैसे तपस्वी की तपस्या भंग करवा दी, इंद्र को गौतम ऋषि का भेष धारण करने पर मजबूर किया, भले ही इसकी सज़ा माता अहिल्या को मिली हो । शायद इसीलिए कहा जाता है कि अगर शरीर में जान है, भावना है तो इश्क से बच नहीं सकते । शायद इसीलिए कहा गया है कि तुम ना मानो मगर हकीकत है, इश्क इंसान की ज़रूरत है ... लेकिन क्या ये भी ज़रूरी नहीं कि अगर इश्क हो तो उसे सार्वजनिक तौर पर माना भी जाए....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें